Connect with us

Astrology

Anapha Yoga in Astrology अनफा योग

Published

on

Anfa yoga/ anpha yoga in astrology

अनफा योग(Anapha yoga in Hindi)

जन्म पत्रिका में चन्द्र के द्वारा कई तरह के शुभ योग और अशुभ योग बनाते है| चन्द्र के द्वारा बनते शुभ योग में अनफा योग(Anapha Yoga) और सुनफा योग(Sunapha yoga ) का जन्म पत्रिका के एनालिसिस करते समय काफी महत्व है|

जन्म पत्रिका में अच्छी तरह से अनफा योग(Anapha Yoga) या सुनफा बनता है तो जातक जीवन में काफी समृद्धि की अर्जित कर सकता है| आज के इस लेख में हम आपको अनफा योग के बारे में काफी महत्व पूर्ण इनफार्मेशन देंगे जो की आपके लिए जानना काफी आवश्यक है|

अनफा योग(Anapha Yoga) कैसे बनता है|

अनफा योग जन्म पत्रिका में जब चन्द्र से बहारावे भाव में जब सूर्य, राहू और केतु के आलावा कोई भी ग्रह जब बेठा हो तब अनफा योग का निर्माण होता है|

चन्द्र से बहरावे भाव में अलग अलग ग्रह का अलग अलग फल मिलता है और उसमे भी भाव का भी इफ़ेक्ट होता है|

Anapha Yoga के लिए जन्म पत्रिका में चन्द्र की स्थिति मजबूत होनी आवश्यक है|

अनफा योग- Result

व्यक्तित्व आकर्षक होता है और समाज में यथोचित मान और सन्मान को प्राप्त करता है| विनम्र शुशील, विचारवान और सदगुणी होता है| सदा प्रसन्नचित और दूसरो का सन्मान करने वाला होता है| सुन्दर ह्रदय वाला और और सुन्दर वस्त्र को धारण करने वाला होता है|

अनफा योग(Anapha Yoga) के अलग अलग ग्रह के प्रभाव

चन्द्र से बारावे भाव में स्थित अलग अलग ग्रह के विभिन्न प्रभाव दिखने को मिलते है| साथ ही उसमे भाव और राशी का भी असर दिखने को मिलता है|

मंगल चन्द्र से बारवे भाव में

मंगल चन्द्र से बारवे होने पर अनफा योग(Anapha Yoga) जन्म पत्रिका में बनता है तब जातक अभिमान का धनी, स्वयं को अन्य से बड़ा समजने वाला, युद्ध में शक्ति का प्रदर्शन करने वाला, दूसरो के धन पर अपना अधिकार जताने वाला भी हो सकता है|

बुध ग्रह चन्द्र से बारवे भाव में

बुध ग्रह अगर चन्द्र से बारवे भाव में स्थित हो तब गायन क्षेत्र में जातक निपुण होता है, काव्य, चित्रकला, आदि विषयों में रूचि रखता है| जातक को सुन्दर स्वास्थ, मिलता है और वह भाषण और दूसरो को अपनी बात मनाने में निपुण होता है| कभी कभी जातक ज्योतिष जैसे विषय और धार्मिक ग्रंथो जैसे विषय में रूचि रखता है|

गुरु ग्रह अगर चन्द्र से बारवे भाव में

गुरु जब जन्म पत्रिका में चन्द्र से बारवे भाव में स्थित होता है तो जातक को ज्ञान अर्जित करने को प्राधान्य देता है| काफी महेनती और अपनी महेनत से अपने मार्ग को सुगम करने वाला होता है|

शुक्र ग्रह अगर चन्द्र से बारवे भाव में

शुक्र जब जन्म पत्रिका में चन्द्र से बारवे भाव में स्थित होता है तो Anapha Yoga का फल काफी अच्छा मिलता है| उस पर उच्च अधिकारी की कृपा दृष्टि रहती है और वह भाग्य और स्त्री का पूर्ण सुख प्राप्त करने वाला होता है|

शनि ग्रह अगर चन्द्र से बारवे भाव में

शनि जब जन्म पत्रिका में चन्द्र से बारवे भाव में स्थित हो तब जातक भाग्यवान होता है| ऐसे जातक का कुल प्रसिद्द होता है, वाहन सुख और मित्र सर्किल बड़ा होता है|

4 Comments

4 Comments

  1. Pingback: Sunapha yoga in Hindi Astrology सुनफा योग - Astro Heaven

  2. Pingback: Durdhara yoga in Hindi Astrology दुर्धरा योग - Astro Heaven

  3. Pingback: चंद्राधि योग (Chandradhi Yoga) in Astrology - Astro Heaven

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Advertisement

Trending