Connect with us

Mantra and Aarti

Shri Govardhan Maharaj Aarti lyrics | Hindi | श्री गोवर्धन आरती

Published

on

Shri Govardhan Maharaj Aarti

Shri Govardhan Maharaj Aarti lyrics: यहाँ हमने भगवान् श्री गोवर्धन जी की आरती की Lyrics को Hindi में दी हुई है| हमें आशा है की आपको यह प्रभि श्री गोवर्धन जी की यह आरती पसंद आएगी| इसे आप PDF में download कर सकते है|

Shri Govardhan Maharaj Aarti lyrics | श्री गोवर्धन आरती

आरती श्री गोवर्धन महाराज की
श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

तोपे पान चढ़े तोपे फूल चढ़े,
तोपे चढ़े दूध की धार।
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

तेरी सात कोस की परिकम्मा,
और चकलेश्वर विश्राम
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

तेरे गले में कण्ठा साज रहेओ,
ठोड़ी पे हीरा लाल।
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

तेरे कानन कुण्डल चमक रहेओ,
तेरी झाँकी बनी विशाल।
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

गिरिराज धरण प्रभु तेरी शरण।
करो भक्त का बेड़ा पार
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज,
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

।। इति श्री गोवर्धन आरती समाप्त ।।

यहाँ हमने प्रभु श्री गोवर्धनजी की आरती(Shri Govardhan Maharaj Aarti) दी है| हमें आशा है की आप इस आरती से संतुष्ट होंगे| अगर आपको यह आरती पसंद आये तो इसे अधिक से अधिक लोगो के साथ शेयर करे|

Panchang

Categories

Facebook

Advertisement

Trending