Connect with us

Astrology

Horoscope of Rahul Gandhi | Analysis in Hindi

Published

on

rahul gandhi image

Horoscope of Rahul Gandhi

राहुल गांधी नेहरू-गांधी परिवार से संबंधित चौथी पीढ़ी के भारतीय राजनीतिज्ञ हैं। वर्तमान में वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उपाध्यक्ष हैं और भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन और भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष के पद भी सम्भाल रहे हैं। वह वर्तमान में केरल के वायनाड निर्वाचन क्षेत्र से विधायक (सांसद) चुने गए हैं। वर्तमान में वह कांग्रेस वर्किंग कमेटी में कमांड में दूसरे स्थान पर हैं।

आज हम वैदिक ज्योतिष के माध्यम से राहुल गांधी की कुंडली का अध्ययन और विश्लेषण करेंगे। इससे पहले कि मैं राहुल गांधी के चार्ट का विश्लेषण और विश्लेषण करूं, मैं उस वेब लिंक को साझा करना चाहूंगा जो मुझे इंटरनेट पर आया था। यहां मैंने राहुल गांधी के जन्म का विवरण पाया है|

इंटरनेट और अन्य वेबसाइटों पर कई स्थानों पर राहुल गांधी की एक और कुंडली है, जिसमें पूरी तरह से अलग समय है जिसकी चर्चा है।

Horoscope Data Of Rahul Gandhi

Birth Date: 19 June 1970
Time of Birth: 14:28 Hrs. (2:28 pm)
Place: New Delhi (India)

rahul gandhi horoscope image

Horoscope Analysis of Rahul Gandhi

राहुल गांधी की जन्म पत्रिका में तुला लग्न और चंद्रमा धनु में हैं और मूला नक्षत्र हैं। आगे जाने से पहले, हम सामान्य रूप से मूल नक्षत्र वाले व्यक्ति के व्यक्तित्व की जांच करे। मूल नक्षत्र वाले अत्यंत अहंकारी, अत्यधिक असुरक्षित, दूसरों के लिए प्रशंसा की कमी, आत्म विनाशकारी प्रवृत्ति, भरोसेमंद नहीं, प्रेम या विवाह से संबंधित मामलों में कोई सफलता नहीं, अत्यधिक जिद्दी, दूसरों के लिए कम सहनशील, कार्यों को निष्पादित करने के लिए पर्याप्त नहीं, बहुत चंचल दिमाग, स्वार्थी क्रोधी और दूसरों को देने की क्षमता बहुत कम होती है।

Planet Placement in Birth Chart of Rahul Gandhi

लग्न भाव का स्वामी और 8 वें भाव का स्वामी शुक्र है और वह 10 वें घर में स्थित है। शुक्र और चंद्रमा के बीच शत्रुता के कारण कर्क राशि में शुक्र का स्थान अच्छा स्थान नहीं है, लेकिन केंद्र में स्थित होने की वजह से वह शक्ति प्राप्त कर रहा है।

दूसरा और 7 वां घर का स्वामी मंगल (कंबस्ट) 9 वें घर मिथुन राशि में स्थित है जो की एक स्थान की दृष्टि से अच्छा है लेकिन वह अपनी शत्रु राशी मिथुन में स्थित है| इस तरह के लोगो को प्रतिबद्धता और संचार मुद्दों के कारण मित्रों और परिवार को बनाए रखने में कठिनाइयों का सामना करन पड़ता है। व्यक्ति के पास आमतौर पर संवाद करने का एक व्यंग्यात्मक तरीका होता है। व्यक्ति को एक विषय पर ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई हो सकती है। व्यक्ति बुद्धिमान है, लेकिन उनकी औपचारिक शिक्षा उच्चतर नहीं हो सकती है। स्वास्थ्य के मोर्चे पर, नसों, गले, गर्दन या पाचन मुद्दों आदि से संबंधित समस्याएं संभव हैं।

3rd and 6th house in Horoscope of Rahul Gandhi

3 और 6 वां घरका स्वामी बृहस्पति जो की वक्री है और लग्न भाव में तुला राशि स्थित है| यहां बृहस्पति तटस्थ भाव में है। यह स्थान विलासिता, सुख, खर्च और सुख में लिप्त होने की ओर झुकाव दे सकता है। जातक आलसी हो सकता है और सुस्ती और निर्णय लेने में असमर्थता की ओर प्रवृत्त हो सकता है। खर्च को नियंत्रित करने में कठिनाई हो सकती है। जातक को ऊर्जा की कमी हो सकती है और कोलेस्ट्रॉल आदि से संबंधित समस्याओं को भी सहना पड़ सकता है।

4th and 5th house in Horoscope of Rahul Gandhi

4 और 5 वें भाव का स्वामी शनि (योग काराक) मेष राशि में सातवे भाव में स्थित है| शनि यहां दुर्बल स्थिति में है। मेष राशि में शनि का स्थान अच्छी स्थिति में नहीं है। यह प्लेसमेंट बताता है कि व्यक्ति कड़ी मेहनत करके भी मनचाहा परिणाम नहीं प्राप्त कर सकता है| जातक को सफलता के लिए कई बाधाओं का सामना करना पड सकता है| शनि की यह स्थिति वैवाहिक जीवन का सुख प्राप्त करने में देरी करवाता है|

9th and 12th house in Horoscope of Rahul Gandhi

9 वें और 12 वें भाव का स्वामी बुध वृषभ राशि में 8 वें भाव में स्थित है। यहां बुध शुक्र के घर में एक अनुकूल स्थिति में है। बुध के लिए 8 वें घर में स्थित होना कुछ नकारात्मकता दे सकता है। हो सकता है कि ऐसा व्यक्ति आलोचना करने के लिए उत्सुक न हो। ऐसा व्यक्ति अपने या साथियों के लिए काम करने वाले लोगों को देख सकता है, वह व्यंग्यात्मक हास्य विकसित कर सकता है। वह उत्तेजित हो सकता है और उसके प्रयासों में गंभीरता की कमी हो सकती है।

11th house in Horoscope of Rahul Gandhi

11 वे भाव का स्वामी सूर्य मिथुन राशि में 9 वें घर में स्थित है। यह बुध के घर में सूर्य के लिए एक तटस्थ स्थिति है। ऐसे व्यक्ति के पास किसी भी निर्णय लेने में देरी लग सकती है| ऐसा व्यक्ति बहुत विश्वसनीय नहीं होने का आभास दे सकता है क्योंकि वह एक विचार से दूसरे में कूद सकता है और कुछ असाइनमेंट करते समय एक मुद्दे पर चिपके रहने में कठिनाई हो सकती है। उन्हें खुद को खांसी और सर्दी से बचाना चाहिए और विशेष रूप से अपनी छाती को।

10th house in Horoscope of Rahul Gandhi

10 वें भाव के स्वामी चंद्र धनु राशि में तृतीय भाव में स्थित है। यह चंद्रमा के लिए एक अनुकूल स्थिति है।
राहु और केतु क्रमशः 5 वें और 11 वें घरों पर कब्जा कर रहे हैं।

अजीब और उनकी कुंडली की कुछ रोचक विशेषताएं:

  • राहुल गाँधी की जन्म पत्रिका में वर्गोत्तम लग्न है| साथ ही उनकी जन्म पत्रिका में बृहस्पति और बुध भी वर्गोत्तम हैं जो उन्हें चांदी के चम्मच के साथ पैदा करते हैं।

 

  • लग्न भाव का स्वामी भगवान शुक्र को 10 वें घर में रखा गया है, लेकिन पाप ग्रहों सूर्य और मंगल के बीच में स्थित है। साथ ही 9 वें भाव के स्वामी बुध भी पाप ग्रहों के बीच में स्थित है।

 

  • उनकी कुंडली में 11 वें स्वामी सूर्य दो शुभ ग्रहों के बीच स्थित हैं। इस वजह से सुभ करतारी योग उनके 11 वें स्वामी (= लाभ) के आसपास बना है, उनकी कमाई असाधारण रूप से उच्च होगी, और वह धन में रोल करके अपने जीवन का आनंद लेंगे।

 

  • जिसकी जन्म पत्रिका में सूर्य मंगल साथ युति में हो वह व्यक्ति ऊर्जावान, प्रसिद्ध, दुष्ट और स्वभाव में पापी, आक्रामक और कुछ क्रूर हो सकता है।

 

  • राहुल गाँधी की जन्म पत्रिका में एक अच्छा विप्रीत राज योग मौजूद है, क्योंकि 12 वें भगवान बुध 8 वें घर में स्थित है।

 

  • राहुल गांधी का जन्म दिन के समय में हुआ था और जन्म पत्रिका में चन्द्र सूर्य और लग्न सभी विषम में स्थित है| इसे ‘महा भाग्य योग’ कहा जाता है और यह संयोजन बहुत दुर्लभ है। इस योग के तहत पैदा होने के आधार पर, वह निश्चित रूप से बहुत लोकप्रिय होंगे और दूसरों पर अपनी असाधारण शक्ति से प्रभाव डालेंगे। यह संयोजन उसके लिए राष्ट्रीय राजनीतिक इतिहास में एक स्थान सुनिश्चित करता है।

 

Ashtakvarga chart of Rahul Gandhi

astakvarga horoscope analysis image of rahul gandhi

राहुल गांधी के बारे में चर्चा करने के लिए कुछ प्रश्न:

What is the reason behind Rahul Gandhi being single and unmarried even at the age of 49?

भारतीय राजनीति में राहुल गांधी , और बॉलीवुड फिल्म उद्योग में सलमान खान के लिए सबसे योग्य प्रश्न यही है| बहुत सारे लोगों के लिए यह एक जिज्ञासु और एक लोकप्रिय प्रश्न है कि वह कब शादी करने जा रहा है। हमें ज्योतिष द्वारा बताए गए इस विवाह में देरी के कारणों जांच करने की आवश्यकता है।

  • मंगल जो की सातवे भाव का स्वामी है जो की मिथुन राशि शत्रु राशी में स्थित है।
  • 7 वें घर में शनि स्थित है और यह इस विवाह में देरी का एक प्रमुख कारण है।
  • विवाह के कारक शुक्र को पाप ग्रहों के बीच में रखा जाता है। नवमांश चार्ट में भी शुक्र दुर्बल है।
  • 7 वें भाव का स्वामी मंगल को शनि की दृष्टि प्राप्त है।
  • 7 वां भगवान मंगल सूर्य के साथ मिलकर है।
  • चंद्रमा लग्न से 7 वें घर को शनि की दृष्टि प्राप्त है।
  • चंद्रमा लग्न से 7 वें घर पर मंगल का कब्जा है।

2024 में राहुल गांधी भारत के प्रधानमंत्री बनेंगे?

राहुल गाँधी का आने वाला अभी भी चुनौती पूर्ण होने वाला है| उनकी जन्म पत्रिका में 2019 के बाद राहू की महा दशा का समय शुरू होने वाला है| राहू उनके पंचम भाव में स्थित है जो की पद-मान, सन्मान का भाव है| राहू की यहाँ स्थिति अच्छी नहीं मानी जाती है| उनको आने वाले समय में काफी उतार देखने को मिल सकते है| राहू खुद ही उस घर का स्वामी है लेकिन अन्य स्वामी भी शनि है जो नीच का होकर सप्तम भाव में स्थित है| यह सब परिस्थित देखते हुए उनके लिए आने वाला राजनैतिक समय काफी चुनौतियों से भरा होगा यह निश्चित रूप से कह सकते है|

नरेन्द्र मोदी की जन्म पत्रिका के बारे में जानने के लिए यह दबाये| 

2 Comments

2 Comments

  1. Pingback: [Best] Numerology for Number 1 In Hindi-2020 - Astro Heaven

  2. Pingback: आत्माकारक ग्रह क्या है | Atmakaraka planet in Astrology - Astrology in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Panchang

Categories

Facebook

Advertisement

Trending