Connect with us

Astrology

Gaj kesari yog in Hindi | गजकेसरी योग

Published

on

Gaj kesri yog in hindi

ज्योतिष शास्त्र में कई तरह के योग को दर्शाया गया है| इन सभी में गज केसरी राजयोग(Gaj kesari yog in Hindi) का कुछ अलग ही महत्व है| आज हम आपसे astrology के इस लेख में गजकेसरी योग के बारे में वुशेष इनफार्मेशन देंगे | साथ ही यह योग जन्म पत्रिका में जब बनता हिया तब क्या क्या लाभ प्राप्त होता है और जातक को इसका फल क्या मिल सकता है|

Gaj kesari yog in Hindi | गजकेसरी योग

जन्म पत्रिका में जब भी गुरु और चन्द्र एकदूसरे से केंद्र भाव में स्थित हो तब जन्म पत्रिका में गज केसरी योग का निर्माण होता है| यह एक शुभ योग है जो अधिकतर सफल व्यक्ति की जन्म पत्रिका में पाया जाता है| चन्द्र से गुरु जब पहले, चौथे, सातवे या दश,म भाव में स्थित होता है तब गजकेसरी योग का निर्माण होता है|

Gaj” का अर्थ होता है हाथी और “Kesari” का अर्थ होता है सिंह| ये दोनों अपनी सत्ता और शक्ति के लिए जाने जाते है|

ज्योतिष शास्त्र में इस योग का कई शुभ फल दिया गया है| इसके शुभ फल कुछ इस तरह होते है|

गजकेसरी योग के लाभ | Benefits of Gaj kesari Yoga

शास्त्रों में इस योग की तुलना सबसे अधिक शुभ एवम राजयोग में की गयी है| क्योंकि यह ज्योतिष के दो प्रमुख एवम शुभ ग्रह चन्द्र और गुरु के द्वारा बनता है|

गुरु ग्रह व्यक्ति के धन के साथ जुड़ा हुआ होता है| जन्म पत्रिका में जब यह योग का निर्माण होता है तब व्यक्ति का सामन्य जीवन सुखी एवम धनवान होता है| वह अपने कार्यक्षेत्र के कारण और अपने ज्ञान के कारण प्रसिद्द होता है|

जब भी जन्म पत्रिका में यह योग निर्माण होता ही तब जातक की सभी मनोकामना पूर्ण होती है| और वह जीवन में कभी न कभी अच्छे पद पर आसीन होता है|

राजकीय क्षेत्र हो या सरकार में उच्च पद की प्राप्ति करना हो, ऐसे विषय में गजकेसरी योग वाले लोग अधिक भाग्यशाली सिद्ध होते है| ऐसे जातक को नाम और पैसे भी आसानी से प्राप्त होते है साथ ही वाहन इत्यादि का सुख भी प्राप्त होता है|

गुरु पुत्रका और चन्द्र माताका कारक होता है| दोनों ग्रह शुभ स्थिति में हो तब जातक को पुत्र एवम माता का सुख अच्छा प्राप्त होता है|

किन लग्न में यह योग काफी प्रभावित होता है?

वेसे तो गजकेसरी योग में शामिल होने वाले दोनों ग्रह का स्वभाव शुद्ध और शुभ है| इसलिए जीसी भी जन्म पत्रिका में यह योग बनता हो उसे कुछ न कुछ प्रमाण में शुभ फल की प्राप्ति अवश्य होती है| लेकिन ऐसे में जब यह योग राजयोग भी बानाले तब यह और भी शुभ फल देता है|मेषलग्न , कर्क लग्न, वृश्चिक लग्न, मीन लग्न और कुछ परिस्थिति में धनु लग्न के जातक को यह काफी अच्छे प्रभाव देता है|

मेष लग्न के जातक के लिए चन्द्र चतुर्थ और गुरु नवम भाव का स्वामी बनकर राजयोग का भी निर्माण करते है| इस लिए मेष लग्न में इसका फल अच्छा रहता है|

कर्क लग्न के जातक के लिए गुरु प्रथम और नवं भाव का स्वामी बनता है| जो दोनों शुभ भाव होने के कारण काफी अच्छा फल प्रदान करते है|

वृश्चिक लग्न, की जन्म पत्रिका में जब भी गजकेसरी योग का निर्माण होता है तब जातक को अपने पूर्वजन्म के शुभ कर्मो के फल की प्राप्ति होती है| यह जातक काफी भाग्यशाली और नाम प्राप्त करने वाला होता है|

मीन लग्न में भी गुरु और चन्द्र प्रथम एवं चतुर्थ भाव का स्वामी बनता है जो शुभ प्रभाव में वृद्धि करता है|

अन्य लग्न जैसे की वृषभ लग्न, मिथुन लग्न, सिंह लग्न, कन्या लग्न, तुला लग्न, मकर और कुम्भ लग्न में गजकेसरी योग का फल कम प्राप्त होता है कुछ केस में बुरे फल भी मिलते है|

कब फल मिलता है?

किसी भी राजयोग का फल सर्वाधिक उसके महादशा में मिलता है| जब भी जन्म पत्रिका में चन्द्र और गुरु यह योग बना रहे हो और उनकी महा दशा या अंतर दशा जीवन में आये तो इस योग का पूर्ण फल मिलता है| लेकिन कभी कभी अच्छे लग्न होने के बावजूद भी इस ग्रह का शुभ फल प्राप्त नहीं हो सकता है|

गुरु और चन्द्र जन्म पत्रिका के लिए शुभ हो लेकिन पत्रिका में अशुभ होकर बेठे हो ऐसे में गजकेसरी योग का फल कम प्राप्त होता है| अच्छे फल की प्राप्ति के लिए गुरु और चन्द्र की मजबूत स्थिति अनिवार्य है| अन्यथा फल में कमी देखने को मिल सकती है|

गजकेसरी योग के कुछ उदहारण (Example of Gaj kesari yog)

गजकेसरी योग अधिकतर सफल व्यक्ति में पाए जाते है| क्योंकि यह मुख्य शुभ और प्रभावी ग्रह के द्वारा बनता है| यहाँ पर हम आपको कुक उदहारण दे रहे है जो गजकेसरी योग के उत्तम उदहारण है|

सुषमा स्वराज की जन्म पत्रिका जो धनु लग्न की है उसमे यह योग बन रहा है|

नरेन्द्र मोदी की जन्म पत्रिका में भी Gaj kesari yog योग का निर्माण हो रहा है| वह चन्द्र की महा दशा में ही प्रधानमंत्री बने| जो वृश्चिक लग्न की पत्रिका है|

निष्कर्ष

हमें आशा है की आपको हमारी और से Gaj kesari yog in Hindi की यह पसंद आयी होगी| आगा आपको अभी भी इस विषय में कोई भी प्रश्न है तो हमें कमेंट करके संपर्क कर सकते है| हमें आपको प्रत्युतर देने में ख़ुशी होगी|Gaj kesari yog in Hindi

Panchang

Categories

Facebook

Advertisement

Trending