Connect with us

Astrology

Bhadra Yoga in Astrology (Hindi)

Published

on

Bhadra mahapurush yoga in astrology

जन्म पत्रिका में पञ्च महापुरुष योग की अलग ही विशेषता है| पंच महापुरुष योग ज्योतिष के मूल पांच ग्रह मंगल, बुध, गुरु, शुक्र और शनि के द्वारा बनते है| आज के इस लेख के माध्यम से हम आपके साथ पंच महापुरुष योग में से एक भद्र योग (भद्र महापुरुष योग) के बारे में बात करेंगे|

Table of Content

भद्र योग कैसे बनता है?
भद्र योग का फल क्या मिलता है?
किस किस लग्न में भद्र योग बन सकता है
भद्र योग भंग कैसे होता है?
भद्र योग की strength और एनालिसिस
भद्र योग का फल कब मिलता है ?
भद्र योग और प्रोफेशन
फेमस व्यक्ति की जन्म पत्रिका में भद्र महापुरुष योग

Formation of Bhadra Yoga

भद्र योग जन्म पत्रिका में बुध के द्वारा बनता है| बुध को जन्म पत्रिका में बुद्धि, व्यवसाय जैसे महत्वपूर्ण पहलु के लिए देखा जाता है | जब भी किसी जातक की जन्म पत्रिका में बुध केंद्र स्थान में मतलब की पहले भाव, चोथे भाव, सप्तम भाव और दशम भाव में से किसी एक भाव में आये तब भद्र योग का निर्माण होता है|

जन्म पत्रिका में केंद्र स्थान का विशेष महत्व है| भद्र महापुरुष योग ज्योतिष में बुध ग्रह स्वराशी मिथुन अथवा कन्या(कन्या राशी बुद्ध की उच्च राशी है) में होकर केंद्र स्थान में स्थित हो तब भद्र महापुरुष योग बनता है|

Results Of Bhadra Mahapurush yoga

भद्र योग पंच महापुरुष योग के अंतर्गत आता है| भद्र महापुरुष योग में जन्म लेने वाले व्यक्ति के लिए शास्त्रों में निम्न लिखित फल दिया है|

  • जातक बुद्धिशाली होता है|
  • जातक राजा सामान जीवन जीने वाला होता है|
  • व्यक्ति सिंह सामान शक्तिशाली एवम साहसी होता है|
  • जातक की छाती का भाग विशाल होता है|
  • शत्रु को अपने बुद्धि से परास्त करता है|
  • जातक में एक महान व्यक्ति जैसे गुण होते है और तेजस्वी होता है|
  • व्यक्ति स्वभाव से नम्र और होता है|
  • जातक योगक्रिया और विद्या में पंडित होता है|
  • भद्रयोग में जन्म लेने वाले व्यक्ति दीर्धकालीन जीवन व्यतीत करने वाला होता है|

OUR EXPERIENCE ON BHADRA YOGA

हमने अपने अनुभवों में यह प्राप्त किया है की जब भी जन्म पत्रिका में बुध धनु और मीन लग्न में आकारक ग्रह माना जाता है| धनु लग्न और मीन लग्न के लिए बुध से बना भद्र योग ज्यादातर जन्म पत्रिका में फल नहीं देते है| लेकिन दुसरे अच्छे योग और राज योग के कारण फल मिल सकता है|

किस किस लग्न के लिए भद्र महापुरुष योग बनता है|

लग्न (Ascendant)भद्र योग बनता है या नहीं
मेष लग्न नहीं बनता
वृषभ लग्न नहीं बनता
मिथुन लग्न बनता है
कर्क लग्न नहीं बनता
सिंह लग्न नहीं बनता
कन्या लग्न बनता है
तुला लग्न नहीं बनता
वृश्चिक लग्न नहीं बनता
धनु लग्न बन सकता है
मकर लग्न नहीं बनता
कुम्भ लग्न नहीं बनता
मीन लग्न बन सकता है

भद्र महापुरुष योग का भंग (Cancellation of Bhadra(Mahapurush) Yoga)

बृहस्पति बुध की शक्ति को कम करता है| ऐसे में जब केन्द्रम में बुध और गुरु की युति हो गुरु की द्रष्टि बुध पर हो तब भी भद्र योग(भद्र महापुरुष योग ) का फल कम मिलता है|

किसी भी शुभ योग या राजयोग का फल लग्न, चन्द्र लग्न और सूर्य लग्न पर भी आधारित होता है| ऐसे में जन्म पत्रिका में लग्न, सूर्य और चन्द्रमा की स्थिति मजबूत न होने पर भद्र महापुरुष योग का फल कम मिलता है|

भद्र योग बनाता बुध अगर सूर्य अथवा चन्द्र से युति करने पर भी इस योग का फल कम हो जाता है|

भद्र योग की स्ट्रेंग्थ और एनालिसिस (Strength and Analysis)

भद्र योग की मजबूत स्थिति जन्म पत्रिका में बुध की स्थिति और बुध के साथ युति और दृष्टि सम्बन्ध से जुड़े हुए अन्य ग्रह पर आधारित होती है| जन्म पत्रिका में जब बुध अपने से विरोध स्वाभाव के ग्रह जैसे की बृहस्पति के साथ युति या द्रष्टि सम्बन्ध से जुड़ता है तो भद्र योग कमजोर होता है|

जन्म पत्रिका में बुध अच्छी स्थिति में हो लेकिन नवमांश में बुध अच्छी स्थिति में न हो तब भी भद्र योग कमजोर होता है|

किसी भी ग्रह की मजबूती को गिनने के लिए शास्त्रों में कई तरह की प्रक्रिया बताई गयी है| जैसे की षड्वार्गीय बल, सप्त वर्गीय बल, विम्शोपक बल, अष्टकवर्गीय बल| इन सभी में अगर बुध की स्थिति अच्छी हो तो भद्र योग का फल अच्छा मिलता है| अगर इन मे सभी में बुध की स्थिति कमजोर है तो भद्र योग का फल कम मिलता है|

बुध यदि पाप करतरी योग में हो तब भी भद्र योग की मजबूती कम हो जाती है|

छठे, आठवे या बारावे भाव के स्वामी अगर बुध के साथ स्थित हो तब भी बुध कमजोर होता है और भद्र योग का फल कम मिलता है|

भद्र योग का फल कब मिलता है| Fructification timing of Bhadra yoga

भद्र योग का फल मिलने की सबसे अधिक संभावना बुध ग्रह की महादशा में और अन्तर्दशा में होती है| कभी कभी अगर जन्म पत्रिका में कुछ अन्य शुभ योग की उपस्थिति हो या शुभ ग्रह बुध से जुड़े हुए हो तब उनकी दशा और महा दशामे भी भद्र योग का फल मिल सकता है|

Bhadra yoga and Career

बुध जन्म पत्रिका में कई महत्व के पहलू जैसे की कम्युनिकेशन और व्यवसाय परअपना आधिपत्य रखता है| जन्म पत्रिका में बुध अच्छा हो और भद्र महापुरुष जैसा योग बना रहा हो तो जातक को lawyers, telephone, e-mails, couriers, writers, astrologers, , media persons, mathematicians, dealers, brokers, news reporters, chartered accountants, जैसे क्षेत्रो से जुड़े हुए काम में सफलता की संभावना अधिक होती है|

सेलेब्रिटी विथ भद्र महापुरुष योग | Celebrities with Bhadra Yoga

कई सेलेब्रेटी और खास कर जो व्यवसाय, स्पोर्ट और पॉलिटिक्स से जुड़े हुए है उनमे भद्र योग अधिक दिखने को मिलता है| हमने यहाँ आपके कुछ उदहारण प्रस्तुत किया है जिनकी जन्म पत्रिका में भद्र योग बनता है|

Lata Mangeshkar: Celebrities with Bhadra Yoga

Lata Mangeshkar: Celebrities with Bhadra Yoga

Bill Gates: Celebrities with Bhadra Yoga

Bill Gates: Celebrities with Bhadra Yoga

Karina Kapoor: Celebrities with Bhadra Yoga

Karina Kapoor: Celebrities with Bhadra Yoga

Manmohan Singh: Celebrities with Bhadra Yoga

Manmohan Singh: Celebrities with Bhadra Yoga

Abhinav Bindra: Celebrities with Bhadra Yoga

Abhinav Bindra: Celebrities with Bhadra Yoga

Trending